Home

प्रेम मंदिर, वृन्दावन

इस मंदिर को बनाने में लगभग ग्यारह बर्षों का समय लगा.! प्रेम मंदिर का शिलान्यास वर्ष 2000 मे हुआ था! कृपालु जी महाराज ने 14 फ़रवरी 2001 मे मंदिर की … Read More

दत्तात्रेय मंदिर, गिरनार (गुजरात)

इस मंदिर में भगवान की दत्तात्रेय की चरण पादुकाएँ आज भी स्थित है जो कि गुजरात के जूनागढ़ के पास स्थित गिरनार पर्वत श्रृंखला की सबसे ऊंची चोटी पर स्थित … Read More

पंच रथ मंदिर, महाबलीपुरम(तमिलनाडु)

तमिलनाडु में कई प्राचीन शहर है जिसमें से एक है महाबलीपुरम जो समुद्र तट पर स्थित है। इस शहर का इतिहास बहुत ही प्राचीन और भव्य है। 7वीं और 10वीं … Read More

प्राणायाम और योग स्वास्थ्य के दो अचूक प्रहरी

प्राणायाम शब्द 2 शब्दों से मिलकर बना है – प्राण और आयाम।प्राण अर्थात श्वास और आयाम अर्थात नियंत्रण। इसलिए प्राणायाम का अर्थ हैं, अपनी श्वासों पर नियंत्रण।साथ ही साथ इसका … Read More

चिदंबरम नटराज मंदिर – चिदंबरम (तमिलनाडु)

चिदंबरम मंदिर तमिलनाडु के चिदंबरम शहर में स्थित है। यह दक्षिण भारत के पुराने मंदिरों में से एक है।जो तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई से 245 किलोमीटर दूर चेन्नई-तंजावुर मार्ग पर … Read More

भीमकुण्ड – बुंदेलखंड (मध्यप्रदेश)

भीमकुण्ड एक प्रसिद्ध तीर्थ स्थान है, जो मध्यप्रदेश के बुन्देलखण्ड अंचल में ज़िला मुख्यालय से लगभग 80 किलोमीटर की दूरी पर सागर-छतरपुर राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित है।यह स्थान आदिकाल से … Read More

भोग नंदीश्वर मंदिर – चिकबलापुरा (कर्नाटक)

भगवान शिव को समर्पित यह अद्भुत मंदिर कर्नाटक राज्य के चिकबलापुरा (बैंगलोर) में नंदी की पहाड़ियों पर स्थित है।9वीं शताब्दी में बना यह मंदिर कर्नाटक राज्य के सबसे प्राचीन मंदिरों … Read More

नीलकंठेश्वर मंदिर, उदयपुर (मध्यप्रदेश)

नीलकंठेश्वर शिव मंदिर मध्यप्रदेश स्थित विदिशा जिले के गंजबासौदा तहसील के उदयपुर ग्राम में स्थित है। मंदिर का निर्माण परमार राजा उदयादित्य द्वारा कराया गया था। मंदिर संवत् 1116 में … Read More

कुचामन किला (कुचामन शहर, राजस्थान)

राठौड़ शासक ठाकुर जालिम सिंह द्वारा 9वीं शताब्दी में निर्मित, कुचामन शहर नागौर जिले में राजस्थान के पूर्वोत्तर भाग में स्थित है। यह शहर 1100 साल पुराने किले “कुचामन किले” … Read More

कोणार्क का सूर्य मंदिर – कोणार्क (ओडिशा)

ओडिशा में स्थित कोणार्क का सूर्य मंदिर भगवान सूर्य को समर्पित है। ये मंदिर भारत की प्राचीन धरोहरों में से एक है। इस मंदिर की भव्यता के कारण ये देश … Read More