Year: 2020

प्रेम मंदिर, वृन्दावन

इस मंदिर को बनाने में लगभग ग्यारह बर्षों का समय लगा.! प्रेम मंदिर का शिलान्यास वर्ष 2000 मे हुआ था! कृपालु जी महाराज ने 14 फ़रवरी 2001 मे मंदिर की पहली ईंट रखी थी! फ़रवरी 2012 मे इसका कार्य पूर्ण हुआ! वृन्दावन मे 54 एकङ में बना यह मंदिर 122 […]

दत्तात्रेय मंदिर, गिरनार (गुजरात)

इस मंदिर में भगवान की दत्तात्रेय की चरण पादुकाएँ आज भी स्थित है जो कि गुजरात के जूनागढ़ के पास स्थित गिरनार पर्वत श्रृंखला की सबसे ऊंची चोटी पर स्थित है! भगवान दत्तात्रेय ब्रम्हा, विष्णु, महेश का संयुक्त रूप हैं, इन्हें आदिगुरु के रूप में जाना जाता है! भगवान दत्तात्रेय […]

पंच रथ मंदिर, महाबलीपुरम(तमिलनाडु)

तमिलनाडु में कई प्राचीन शहर है जिसमें से एक है महाबलीपुरम जो समुद्र तट पर स्थित है। इस शहर का इतिहास बहुत ही प्राचीन और भव्य है। 7वीं और 10वीं सदी के पल्लव राजाओं द्वारा बनाए गए कई मंदिर और स्थान यहां की शोभा बढ़ा रहे हैं। कांचीपुरम पर राज […]

प्राणायाम और योग स्वास्थ्य के दो अचूक प्रहरी

प्राणायाम शब्द 2 शब्दों से मिलकर बना है – प्राण और आयाम।प्राण अर्थात श्वास और आयाम अर्थात नियंत्रण। इसलिए प्राणायाम का अर्थ हैं, अपनी श्वासों पर नियंत्रण।साथ ही साथ इसका एक और भाग है जिसे योगासन अथवा योग के नाम से जाना जाता है।प्राणायाम जहां सांसों को नियंत्रित कर के […]

चिदंबरम नटराज मंदिर – चिदंबरम (तमिलनाडु)

चिदंबरम मंदिर तमिलनाडु के चिदंबरम शहर में स्थित है। यह दक्षिण भारत के पुराने मंदिरों में से एक है।जो तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई से 245 किलोमीटर दूर चेन्नई-तंजावुर मार्ग पर स्थित है।इस मंदिर के बारे में कहा जाता है कि भगवान शिव ने यहाँ आनंद नृत्य की प्रस्तुति यहीं की […]

भीमकुण्ड – बुंदेलखंड (मध्यप्रदेश)

भीमकुण्ड एक प्रसिद्ध तीर्थ स्थान है, जो मध्यप्रदेश के बुन्देलखण्ड अंचल में ज़िला मुख्यालय से लगभग 80 किलोमीटर की दूरी पर सागर-छतरपुर राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित है।यह स्थान आदिकाल से ऋषियों, मुनियों, तपस्वियों एवं साधकों के आकर्षण का केन्द्र रहा है।वर्तमान समय में यह धार्मिक-पर्यटन एवं वैज्ञानिक शोध का केन्द्र […]

भोग नंदीश्वर मंदिर – चिकबलापुरा (कर्नाटक)

भगवान शिव को समर्पित यह अद्भुत मंदिर कर्नाटक राज्य के चिकबलापुरा (बैंगलोर) में नंदी की पहाड़ियों पर स्थित है।9वीं शताब्दी में बना यह मंदिर कर्नाटक राज्य के सबसे प्राचीन मंदिरों में से एक है।इसका निर्माण नोलाम्बा के शासक द्वारा करवाया गया था।बाद में बाना, गंगा, चोला व विजयवाड़ा आदि राजवंशों […]

नीलकंठेश्वर मंदिर, उदयपुर (मध्यप्रदेश)

नीलकंठेश्वर शिव मंदिर मध्यप्रदेश स्थित विदिशा जिले के गंजबासौदा तहसील के उदयपुर ग्राम में स्थित है। मंदिर का निर्माण परमार राजा उदयादित्य द्वारा कराया गया था। मंदिर संवत् 1116 में प्रारंभ हुआ था और संवत् 1137 में निर्माण पूर्ण हुआ था और संवत 1137 में में शिखर पर ध्वजारोहण किया […]

कुचामन किला (कुचामन शहर, राजस्थान)

राठौड़ शासक ठाकुर जालिम सिंह द्वारा 9वीं शताब्दी में निर्मित, कुचामन शहर नागौर जिले में राजस्थान के पूर्वोत्तर भाग में स्थित है। यह शहर 1100 साल पुराने किले “कुचामन किले” से घिरा हुआ हैं और इसमें कुछ शेखावाटी हवेलियों सहित कई ऐतिहासिक अवशेष हैं।कुचामन का किला 300 मीटर ऊँचे पर्वत […]

कोणार्क का सूर्य मंदिर – कोणार्क (ओडिशा)

ओडिशा में स्थित कोणार्क का सूर्य मंदिर भगवान सूर्य को समर्पित है। ये मंदिर भारत की प्राचीन धरोहरों में से एक है। इस मंदिर की भव्यता के कारण ये देश के सबसे बड़े 10 मंदिरों में गिना जाता है।कोणार्क का सूर्य मंदिर ओडिशा राज्य के पुरी शहर से लगभग 23 […]